मित्रों!

आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।


समर्थक

मंगलवार, 7 मार्च 2017

"बिखरीं पड़ीं हैं"


                                                   "बिखरीं पड़ीं हैं"    
"बिखरीं पड़ीं हैं"


संवेदनाओं के शब्द भारित 
नेत्र में टिकतें नहीं हैं
आसमां के स्वप्न रंजित 
धूल में बिखरें पड़ें हैं,

विश्वास की पराकाष्ठा हो चली 
निराशा  दिखतें मुझको नहीं हैं 
फिर ये कैसी कलुषित भावना 
मन को यूँ ,घेरे हुयें  हैं,

उड़ने की हर पल मैं सोचूँ  
पंखों में साहस भरें हैं 
अम्बर में छाई है,बदली 
घेरे हुए क्यूँ ! जो मुझे हैं,

ऊँचा उड़ता जो कभी मैं 
पंखों के ताकत के बूते 
कड़ियाँ माया की बँधीं हैं 
पावों में जंजीरें पड़ीं हैं,

बस मैं चाहूँ पार जाना 
स्वप्नों से ना हार जाना 
अपनों ने घायल किया है,

उम्मीदें नईं धूमिल हुईं हैं 
धूल में बिखरीं पड़ीं हैं......... 



 ध्रुव सिंह  "एकलव्य"  
 "एकलव्य की प्यारी रचनायें" एक ह्रदयस्पर्शी हिंदी कविताओं एवं विचारों का संग्रह
 





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें